Mon. Jan 17th, 2022

आज दिनांक 23/11 /2021 को आर एस ए का एक प्रतिनिधिमंडल छात्र-छात्राओं के समस्या को लेकर विश्वविद्यालय गए थे ।लेकिन कोई भी पदाधिकारी विश्वविद्यालय कैंपस में मौजूद नहीं था ।जिसके कारण नाराज कार्यकर्ताओं ने विश्वविद्यालय प्रशासन के खिलाफ मेन गेट पर प्रदर्शन किया। मालूम हो कि लगभग 2 महीना से अधिक होने जा रहा है पीजीआरसी के बैठक हुए लेकिन अभी तक विभाग में पीजीआरसी का पत्र नहीं भेजा गया है। जिसके कारण शोध कर रहे छात्र-छात्राओं को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है । कई शोध छात्र -छात्राओं को अपना शोध ग्रंथ जमा करना है ।पीजी आरसी का पत्र नहीं मिलने के कारण अपना शोध ग्रंथ जमा नहीं कर पा रहे हैं। बहुत से शोध छात्रों का गाइड चेंज करना था उसका भी पत्र नहीं मिला ।यानी पूरी तरह से शोध कार्य जयप्रकाश विश्वविद्यालय में बाधित हो चुका है और विश्वविद्यालय प्रशासन एवं लूट तंत्र में लगा हुआ है। शोध छात्र -छात्राओं से कोई लेना-देना नहीं है। वही स्नातक प्रथम खंड नामांकन में सीट बढ़ोतरी हुआ है। राज्य सरकार के द्वारा लेकिन अभी तक उस सीटों पर नामांकन के लिए मेघा सूची का प्रकाशन नहीं हुआ है। हजारों छात्र अभी भी सड़क पर नामांकन के लिए भटक रहे हैं और विश्वविद्यालय प्रशासन कान में तेल डालकर सो रहा है ।इसे आर एस ए बर्दाश्त नहीं करेगी ।विश्वविद्यालय प्रशासन जल्द से जल्द बचे हुए सीटों पर नामांकन के लिए अधिसूचना जारी करें ।स्नातक में साथ ही पी जीआरसी का पत्र 1 सप्ताह के अंदर शोध छात्र- छात्राओं को उपलब्ध करवा दें अन्यथा उग्र आंदोलन के लिए विश्वविद्यालय प्रशासन तैयार रहें ।इस अवसर पर प्रमुख रूप से आर एस ए के सहसंयोजक विकाश सिंह सेंगर, सचिन कुमार, विजय कुमार, अंकुर कुमार, सोनू सिंह, रामाकांत सिंह आदि प्रमुख रूप से शामिल थे।

भवदीय

सहसंयोजक आर एस ए
विकाश सिंह सेंगर

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share via