Mon. Jan 17th, 2022

आशा कार्यकर्ता घर-घर जाकर कालाजार मरीजों की करेंगी पहचान:
आशा कार्यकर्ताओं को मिलेगा 1000 का अतिरिक्त प्रोत्साहन राशि:
अपर निदेशक सह राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी ने जारी किया निर्देश:

मधेपुरा, 22 दिसंबर।
कालाजार उन्मूलन को लेकर स्वास्थ्य विभाग प्रतिबद्ध है। इस दिशा में विभिन्न स्तर पर कार्य किये जा रहें है। इसी कड़ी में 23 दिसंबर से जिले में कालाजार मरीज खोज अभियान की शुरूआत की जायेगी। आशा कार्यकर्ता द्वारा घर-घर जाकर कालाजार मरीजों की पहचान की जायेगी। इस संबंध में वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम के अपर निदेशक सह राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी डॉ. अंजनी कुमार ने पत्र जारी कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिया है। जारी पत्र में कहा गया है कि रोगी खोज के दौरान 15 अथवा 15 दिनों से अधिक बुखार से पीड़ित व्यक्ति जिन्होने बुखार के दौरान मलेरिया की दवा अथवा एन्टीबायोटिक दवा का सेवन किया हो एवं उसके बाद भी बुखार ठीक न हुआ हो, भूख की कमी एवं उदर का बड़ा होना जैसे लक्षण हो उन्ही व्यक्तियों की जाँच आरके 39 किट द्वारा किये जाने हेतु प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र को रेफर किया जाना है ।

आरके 39 कीट से किया जायेगा जांच:
जिले के जिला वेक्टर जनित रोग नियंत्रण पदाधिकारी (डी. भी. बी. डी. सी. ओ.) डॉ मुकेश कुमार सिंह ने बताया कि किसी व्यक्ति ने कालाजार का ईलाज पूर्व में कराया हो फिर भी उन में बुखार के साथ कालाजार के लक्षण पाये जाए तो उन्हें आरके-39 किट से जॉच न करते हुए बोन मैरॉव या स्पलीन जॉच के लिए आशा द्वारा उन मरीजों को सदर अस्पताल रेफर किया जाय तथा उनके नाम की प्रविष्टी रेफरल पर्ची में की जायेगी। वैसे व्यक्ति जिन्हे बुखार न हो लेकिन उनके शरीर के चमड़े पर चकता अथवा दाग हो किन्तु उसमें सूनापन न हो तथा वे पूर्व में कालाजार से पीड़ित रहे हो, वैसे व्यक्तियों को भी आरके-39 किट से जाँच हेतु प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र को रेफर किया जाना है।

पीएचसी में नि:शुल्क इलाज की सुविधा उपलब्ध:
कालाजार मरीजों के इलाज की सुविधा जिले के सभी पीएचसी में नि:शुल्क उपलब्ध है। मरीजों को सरकारी अस्पतालों में इलाज कराने पर श्रम क्षतिपूर्ति के रूप में सरकार द्वारा 7100 रुपये की राशि दी जाती है। पीकेडीएल मरीजों को पूर्ण उपचार के बाद सरकार द्वारा 4000 रुपये श्रम क्षतिपूर्ति के रूप में दिये जाने के प्रावधान की जानकारी उन्होंने दी जायेगी।

15 दिनों से अधिक समय तक बुखार का होना कालाजार के लक्षण:
जिला वेक्टर जनित रोग नियंत्रण पदाधिकारी डॉ मुकेश कुमार सिंह कहते हैं कि 15 दिनों से अधिक समय तक बुखार का होना कालाजार के लक्षण हो सकते हैं। भूख की कमी, पेट का आकार बड़ा होना, शरीर का काला पड़ना कालाजार के लक्षण हो सकते हैं। वैसे व्यक्ति जिन्हें बुखार नहीं हो लेकिन उनके शरीर की त्वचा पर सफेद दाग व गांठ बनना पीकेडीएल के लक्षण हो सकते हैं।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share via