Friday, December 2, 2022
HomeUncategorizedप्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान: अस्पतालों में हुई गर्भवती महिलाओं की स्वास्थ जांच

प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान: अस्पतालों में हुई गर्भवती महिलाओं की स्वास्थ जांच

गर्भवती महिलाओं को अपने स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान रखने की जरूरत:
गर्भकाल में महिलाएं पौष्टिक आहार का करें सेवन:
मातृत्व अभियान में महिलाओं की सभी जरूरी जांच की व्यवस्था:

पूर्णियाँ, 09 फरवरी।
गर्भावस्था में महिलाओं को अपने स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान रखना जरूरी होता है। उनका बेहतर स्वास्थ्य ही उनके आने वाले बच्चे के अच्छे स्वास्थ्य की परिकल्पना साकार करता है। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान के तहत प्रत्येक माह की 09 तारीख को सभी स्वास्थ्य केन्द्रों व उपस्वास्थ्य केन्द्रों में विशेष कैम्प का आयोजन कर गर्भवती महिलाओं की स्वास्थ्य जांच की जाती है। इस अभियान के तहत बुधवार को जिले के सभी अस्पतालों में गर्भवती महिलाओं की आवश्यक जांच की गई और आवश्यक दवाइयां दी गई। इस दौरान सभी गर्भवती महिलाओं को अच्छे स्वास्थ्य के लिए किए जाने वाले उपयुक्त कार्यशैली की सलाह भी दी गई।

सभी जरूरी जांच का हुआ आयोजन :
कसबा प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में गर्भवती महिलाओं की जांच कर रही जीएनएम बॉबी कुमारी ने बताया कि प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान के अंतर्गत आयोजित कैम्प में गर्भवती महिलाओं की सभी प्रकार की जांच की गई। इसमें खून जांच, अल्ट्रासाउंड, हीमोग्लोबिन, यूरिन टेस्ट, ब्लड प्रेशर आदि की जांच हुई। जांच के बाद जरूरी दवाइयां देने के साथ ही सभी गर्भवती महिलाओं को अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहने और प्रसव के लिए जरूरी उपायों का ध्यान रखने की जानकारी दी गई। जांच कर रही एएनएम वीणा कुमारी ने बताया कि प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान के तहत दूसरी और तीसरी तिमाही की सभी गर्भवती महिलाओं की गुणवत्तापूर्ण प्रसव पूर्व देखभाल के लिए स्वास्थ्य जांच हर माह की 09 तारीख को सभी स्वास्थ्य केन्द्रों में कराई जाती है।

समय-समय पर जांच करवाना जरूरी :
कसबा बीसीएम उमेश पंडित ने बताया कि गर्भवती महिलाओं को अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहना चाहिए क्योंकि उनके स्वास्थ्य पर ही उनके होने वाले शिशु का स्वास्थ्य निर्भर करता है। गर्भवती महिला को गर्भावस्था के दौरान 4 प्रसव पूर्व जांच जरूरी होता है। इसके साथ ही महिला को टेटनस का टीका भी गर्भावस्था के दौरान लेना चाहिए। महिलाओं के शरीर में पर्याप्त खून की कमी हो सकती है जिससे उबरने के लिए उन्हें आयरन फालिक एसिड की गोली का सेवन करना चाहिए।

गर्भकाल में महिलाएं पौष्टिक आहार का करें सेवन :
कसबा प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र की जीएनएम शनिचरी कुमारी ने बताया कि गर्भावस्था में महिलाओं को पौष्टिक आहार का सेवन करना चाहिए। इनसे महिला के स्वास्थ्य तंदुरुस्त रहता है एवं उनमें खून की कमी जैसी समस्या होने का खतरा भी नहीं रहता। इसके लिए महिलाओं को ताजी हरी सब्जियां, साग जैसे पालक, बथुआ, चना, गुड़ इत्यादि का सेवन करना चाहिए । खून की कमी को दूर करने के लिए महिलाओं को आयरन युक्त भोजन लेना चाहिए। आयरन युक्त भोजन के रूप में गाजर, टमाटर, खजूर, अंजीर, किशमिश, छिलके वाली आलू, ब्रोकली, अखरोट, मूंगफली, चुकंदर, अंकुरित बीज, दलिया आदि खाना चाहिए। इसके अलावा महिलाओं को ताजे फल और दूध का सेवन करना चाहिए।

गर्भावस्था के दौरान इन बातों का रखें ध्यान :
• रातों में अच्छी नींद लें व तनाव मुक्त रहें।
• घर से बाहर निकलने से परहेज करें।
• सकारात्मक सोचें व मानसिक परेशानी परिवार से साझा करें।

प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान: अस्पतालों में हुई गर्भवती महिलाओं की स्वास्थ जांच
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments