Monday, December 5, 2022
HomeUncategorizedखामोशी के साथ मेहनत करे ताकि सफ़लता खुद शोर मचा दे- डॉ...

खामोशी के साथ मेहनत करे ताकि सफ़लता खुद शोर मचा दे- डॉ पूनम सिंह

छ्परा
बिहार कला एवं सांस्कृतिक परिषद की ओर से ग्लोरी ऑफ बिहार अवार्ड का आयोजन किया गया था इस अवसर पर अपने अपने क्षेत्र के प्रबुद्ध एवम शिक्षाविद लोगों को ग्लोरी ऑफ बिहार सम्मान से सम्मानित किया गया था वही बता दें कि जयप्रकाश विश्वविद्यालय की मनोविज्ञान संकाय की विभागाध्यक्ष डॉक्टर प्रोफेसर पूनम सिंह को शिक्षा के क्षेत्र में ग्लोरी ऑफ बिहार के सम्मान से सम्मानित किया गया था जिस को लेकर जयप्रकाश विश्वविद्यालय में चल रहे पीएचडी कोर्स वर्क के छात्र छात्राओं के बीच काफी खुशी का माहौल है जिसको लेकर शनिवार के दिन प्रोफेसर डॉ आशा रानी एवम सभी छात्र छात्राओं के द्वारा डॉक्टर पूनम सिंह को शॉल और पुष्पगुच्छ देकर भव्य स्वागत किया गया।
वही मनोविज्ञान संकाय की प्रोफेसर डॉ आशा रानी ने छात्रों के बीच अपनी बात रखी और अपने संबोधन में कहा कि हमारे विश्वविद्यालय की विभागाध्यक्ष डॉ पूनम सिंह को बिहार कला सांस्कृतिक परिषद के द्वारा इन्हें शिक्षा के क्षेत्र में ग्लोरी ऑफ बिहार का अवार्ड दिया गया है जो जयप्रकाश विश्वविद्यालय के लिए गर्व की बात है इसलिए सभी छात्र छात्राओं को इनसे प्रेरणा लेना चाहिए और जीवन मे हमेशा बिना किसी सहारा का अपनी मेहनत आगे बढ़ने के लिए प्रयास करते रहना चाहिए जिससे कामयाबी जरूर मिलती है।
वही आज के इस आयोजन में डॉ पूनम सिंह ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि पुरस्कार पाना बहुत ही अच्छा लगता है लेकिन उसके लिए आप जिस किसी भी क्षेत्र में है उस क्षेत्र में लगन के साथ कड़ी मेहनत की अवश्यकता पड़ती है तब जाकर क़ामयाबी मिलती है,वैसे भी इंसान को खामोशी के साथ मेहनत करना चाहिए ताकि सफलता खुद शोर मचा दे।
वही आज के इस आयोजन में शोधार्थी अपर्णा कुमारी,पूजा सिंह,रितु कुमारी,सरिता कुमारी,फिरोज अंसारी,मनोरंजन पाठक अली इमाम,विजय कुमार,आकाश कुमार,लक्ष्मण सिंह,पूजा कुमारी,ब्रजभूषण यादव,प्रिंयका कुमारी,मनीषा कुमारी,सहित दर्जनों शोधार्थी मौजूद रहे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments