प्रतिकुलपति महोदय ने लोकनायक को पुण्यतिथि पर किया नमन;याद किये पुराने संस्मरण|

प्रतिकुलपति महोदय ने लोकनायक को पुण्यतिथि पर किया नमन;याद किये पुराने संस्मरण|

प्रतिकुलपति महोदय ने लोकनायक को पुण्यतिथि पर किया नमन;याद किये पुराने संस्मरण|

प्रतिकुलपति महोदय ने लोकनायक को पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि देते हुए कहा की परम श्रद्धय लोकनायक जयप्रकाश नारायण जी देशभक्ति, निर्भिकता और स्वाभिमान के प्रतीक है|वे
अत्यंत सौभाग्यशाली रहे है की उन्हें विद्यार्थी काल से ही आदरणीय जयप्रकाश बाबू का व्यक्तिगत स्नेह और आशीर्वाद प्राप्त रहा है| अपने गया प्रवास के दौरान जेपी अपने अभिन्न मित्र श्री बनवारी प्रसाद भूप के आवास पर ही ठहरते थे जो प्रतिकुलपति महोदय के पडोसी और पारिवारिक मित्र थे|उन्होंने
कहा की हमलोग घंटों तक जेपी के साथ रहते थे और वे हमें परिवार के सदस्य की तरह स्नेह देते थे|आपातकाल आंदोलन के दौरान भी उनका आशीर्वाद और मार्गदर्शन मुझे मिला है| संपूर्ण क्रांति आंदोलन के कई करीबी मित्र और सहयोगी आज ख्यातिप्राप्त राजनेता है| प्रतिकुलपति ने कहा की
जेपी राष्ट्रनायक थे; उन्हें न सत्ता का मोह था न किसी पद की लालसा, उन्होंने सदैव एक जनसेवक के रूप में निस्वार्थ भाव से राष्ट्रहित में काम किया।उनके लिए, राष्ट्रहित और लोगों के कल्याण से ऊपर कुछ नहीं था।आज माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी लोकनायक के आदर्शों पर चलते हुए एक जनसेवक के रूप में राष्ट्रसेवा कर रहे| युवाओं को श्रद्धेय जेपी से प्रेरणा लेनी
चाहिए|

Please follow and like us:
error5
Tweet 20
fb-share-icon20
Live खबर