कम्युनिटी रेडियो व्यवहार परिवर्तन के मामले में सबसे सशक्त माध्यम : अभिषेक

कम्युनिटी रेडियो व्यवहार परिवर्तन के मामले में सबसे सशक्त माध्यम : अभिषेक

  • सेशन में कम्युनिटी रेडियो की शक्ति और प्रभाव के बारे में बताया।
  • कम्युनिटी रेडियो के पीछे समाज सेवा की भावना होनी चाहिए।

Chhapra : वन वर्ल्ड फाउंडेशन इंडिया सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय भारत सरकार द्वारा आयोजित दो दिवसीय राष्ट्रीय वेबीनार का आयोजन किया गया, जिसमें एक्सपर्ट पैनलिस्ट के रूप में बिहार से अभिषेक अरुण शामिल हुए और हिंदी भाषी सामुदायिक रेडियो का प्रतिनिधित्व किया। इस राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन सामुदायिक रेडियो जागरूकता के लिए किया गया, जिसमें देश भर से कई NGO, KVK और कई शैक्षणिक संस्थान शामिल हुए।

एक्सपर्ट पैनलिस्ट के रूप में शामिल हुए अभिषेक अरुण ने अपने सेशन में नए आवेदकों को गाइड किया और उन्हें कम्युनिटी रेडियो की शक्ति और प्रभाव के बारे में बताया कि कैसे कम्युनिटी रेडियो अपने समुदाय के हित के लिए काम करता है।

उन्होंने कहा कि एक NGO के तौर पर जब आप सामुदायिक रेडियो शुरू करते हैं तो इसके पीछे आपका पैशन का होना बहुत ज़रूरी होता है, वरना कम्युनिटी रेडियो के उद्देश्यों को पूरा करना मुश्किल होगा। उन्होंने यह भी बताया कि इसके पीछे एक समाज सेवा की भावना होनी चाहिए।

कम्युनिटी रेडियो बाकी सभी माध्यमों से सबसे ज़्यादा सशक्त माना जाता है, क्योंकि कम्युनिटी रेडियो के साथ लोग भावनात्मक रूप से जुड़ जाते हैं और कम्युनिटी रेडियो में बताए गए हर बातों पर अमल भी करते हैं। साथ ही अपनी समस्याओं को और अपने विचारों को भी कम्युनिटी रेडियो के साथ शेयर करते हैं।

दो दिवसीय आयोजित इस वेबिनार में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की ओर से अपर निदेशक (CR ) सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय गौरीशंकर केसरवानी, वन वर्ल्ड की ओर से आभा नेगी (MD), पूनम श्रीवास्तव, देशराज सिंह, राजीव टिक्कू, सौम्या झा आदि के साथ साथ लगभग सौ प्रतिभागी शामिल रहे ।

Please follow and like us:
error5
Tweet 20
fb-share-icon20
Live खबर