राष्ट्रीय पोषण माह: घर-घर जाकर कुपोषित बच्चों को चिह्नित करेंगी आंगनबाड़ी सेविका व एएनएम

राष्ट्रीय पोषण माह: घर-घर जाकर कुपोषित बच्चों को चिह्नित करेंगी आंगनबाड़ी सेविका व एएनएम

पहले दिन 0 से 6 साल तक के बच्चों के वजन, ऊंचाई व लंबाई की माप की गयी:
पोषण को बढ़ावा देने को विभिन्न स्तरों पर होगा जागरूकता अभियान का संचालन

अररिया, 01 सितंबर।
राष्ट्रीय पोषण माह अभियान के तहत जिले को कुपोषण से जुड़ी चुनौतियों से निजात दिलाने के लिये 01 से 30 सितंबर तक विभिन्न गतिविधियों का आयोजन किया जायेगा। पोषण माह अभियान के लिये इस साल कुपोषण छोड़ पोषण की ओर, थामें स्थानीय भोजन की डोर थीम निर्धारित किया गया है। अभियान के पहले चरण में बुधवार को जिले के सभी आंगनबाड़ी केंद्रों पर सेविका, आशा कार्यकर्ता व एएनएम के संयुक्त अगुआई कुपोषित बच्चों को चिह्नित करने के लिये 0 से 6 साल तक के बच्चों के वजन, ऊंचाई व लंबाई की माप की गयी। ताकि बच्चों के पोषण स्तर के आधार पर सामान्य, कुपोषित व अति कुपोषित बच्चों की पहचान की जा सके।

कई स्तरों पर होगा जागरूकता संबंधी गतिविधियों का आयोजन: डीपीओं
अभियान के संबंध में जानकारी देते हुए आईसीडीएस डीपीओ सीमा रहमान ने बताया कि अलग-अलग चरणों में पूरे माह पोषण माह अभियान का संचालन किया जाना है। इस क्रम में कुपोषित बच्चों को चिह्नित करने के साथ-साथ जिला व प्रखंड स्तर पर पोषण संबंधि संदेशों का प्रचार-प्रसार, जीविका एसएचजी समूह के माध्यम से स्वच्छ गांव समृद्ध गांव सहित स्थानीय भोजन सहित पोषण संबंधी विषयों पर चर्चा व पोषण वाटिका को बढ़ावा देने संबंधी गतिविधियों का आयोजन किया जायेगा। विद्यालयों में चेतना सत्र आयोजित कर पोषण पोषण प्रश्नोत्तरी कार्यक्रम का आयोजन किया जायेगा। विभिन्न स्तरों पर योग सत्र का आयोजन किया जायेगा। इसके साथ ही स्थानीय स्तर पर आसानी से उपलब्ध पौष्टिक खाद्य पदार्थ पर जागरूकता फैलाने का प्रयास किया जायेगा। एनीमिया प्रबंधन, कृमिनाशक अभियान सहित अन्य गतिविधियों का आयोजन पूरे माह के दौरान किये जाने की बात उन्होंने कही।

विभिन्न स्तरों पर होगा पोषण परामर्श केंद्र का संचालन: डीसी
पोषण अभियान के जिला कार्यक्रम समनव्यक कुणाल श्रीवास्तव ने बताया कि पोषण माह के दौरान जिला, प्रखंड व पंचायत स्तर पर कोरोना गाइड लाइन का अनुपालन करते हुए पोषण परामर्श केंद्र का संचालन किया जाएगा। इस दौरान आंगनबाड़ी सेविका-सहायिका,आशा, एएनएम, ग्राम स्वास्थ्य स्वच्छता व पोषण समिति के सदस्यों, शिक्षकों, विकास मित्र, जीविका समूह के सदस्यों के द्वारा स्थानीय वयस्क लोगों के सहयोग से पोषण रैली का आयोजन किया जाएगा। आंगनबाड़ी केंद्र, विद्यालय व ग्राम पंचायत स्तर पर पौधरोपण व पोषण वाटिका का निर्माण कराया जाएगा। साथ ही गर्भवती महिलाओं को पोषण युक्त आहार लेने के लिए प्रेरित करने के लिए स्लोगन लेखन प्रतियोगिता, आंगनबाड़ी केंद्र पर एनीमिया पर जागरूकता के लिए सेल्फी प्रतियोगिता आदि कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे। आंगनबाड़ी केंद्रों पर स्थानीय खाद्य सामग्री का प्रदर्शन व कृमि नाशक अभियान का संचालन किया जाएगा।

मातृ वंदना सप्ताह का होगा आयोजन:
पोषण माह अभियान के दौरान 01 से 07 सितंबर के बीच मातृ वंदना सप्ताह आयोजित किये जायेंगे। इस संबंध में जानकारी देते हुए पीएमएमभीवाई के जिला समन्वयक शोएब रूमि ने बताया कि इस दौरान योजना का व्यापक प्रचार-प्रसार कराया जायेगा। योजना लाभ के लिये लंबित आवेदनों के निष्पादन, बकाया किस्तों के भुगतान प्राथमिकता के आधार पर सुनिश्चित कराया जायेगा। साथ ही विशेष शिविर आयोजित कर योग्य लाभुकों के आवेदन प्राप्त किये जायेंगे। ताकि उन्हें योजना का लाभ उपलब्ध कराया जा सके।

Please follow and like us:
error5
Tweet 20
fb-share-icon20
हेल्थ