कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए वैक्सीनेशन एक बड़ा हथियार है: सिविल सर्जन

संक्रमण से बचाव के लिए वैक्सीनेशन एक बड़ा हथियार है: सिविल सर्जन

टीका का दोनों डोज लेने के बाद भी जरूरी है नियमों का पालन:
घटती पाबंदियों के साथ कोरोना नियमों के पालन में लापरवाही न करें:

किशनगंज, 05 जुलाई।
विगत 14-15 माह से हम सभी भारतवर्ष के लोग तथा संपूर्ण विश्व कोविड-19 नामक संक्रमण से जूझ रहा है। इस संकमण ने हमारी रोजमर्रा की जिंदगी को बहुत प्रभावित किया है । इस बीच हमने कोरोना की पहली लहर और दूसरी लहर को भी सहा है। कोविड संक्रमण की अलग-अलग प्रकार की लहर के दौरान बहुत सारे लोगों के रिश्तेदारों, पारिवारिक सदस्यों तथा मित्र मंडली में से कई लोगों के स्वास्थ्य को गंभीर हानि हुई है। कुछ प्रकरणों में लोगों को अपनी जान गँवानी पड़ी है।

संक्रमण से बचाव के लिए वैक्सीनेशन एक बड़ा हथियार: सीएस
सिविल सर्जन डॉ श्री नंदन ने कहा कि फिर यह बीमारी सिर नहीं उठा सके, फिर हमें यह सब सहन न करना पड़े, इसके लिये हमें कुछ सावधानियाँ रखनी आवश्यक है। कोविड 19 से बचाव के लिए लगाई जा रही वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित है। जिला प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग सभी लोगों की स्वास्थ्य की सुरक्षा को पूरी तरह से जागरूक है तथा वह लगातार प्रयासरत है कि इस बीमारी से हमारा बचाव हो सके। इस कार्य के लिए वैक्सीनेशन एक बड़ा हथियार है। अत: मेरा सभी लोगों से अनुरोध है कि वैक्सीनेशन जरूर करवायें। इस तरह न केवल आप कोविड संक्रमण से स्वयं का बचाव कर सकते हैं बल्कि अपने परिजनों, मित्रों तथा मिलने-जुलने वालों एवं आस-पास के सभी लोगों को कोविड से बचाने के लिये अपना उत्तरदायित्व निभाते हैं। जब आप स्वयं संक्रमित नहीं होंगे तो आपके परिवार में छोटे बच्चे, अन्य परिजन तथा आपके संपर्क में आने वाले व्यक्तियों तक कोविड संकमण आपके द्वारा संचारित नहीं होगा

घटती पाबंदियों के साथ कोरोना नियमों के पालन में लापरवाही न करें: सीएस
सिविल सर्जन डॉ श्री नंदन ने कहा राज्य सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देश के आलोक में जिला प्रशासन द्वारा समय-समय पर कोविड- 19 की दूसरी लहर की रोक-थाम के लिए लगाई गयी पाबंदियों में जैसे-जैसे कमी की जा रही है, वैसे-वैसे लोग कोरोना नियमों के पालन करने के प्रति उदासीन होते दिख रहे हैं। इस प्रकार की उदासीनता कोरोना को निमंत्रण देने के समान है।

जब भी घर से बाहर निकलें मास्क जरूर पहनें: सीएस
सिविल सर्जन ने कहा जब भी घर से बाहर निकलें मास्क जरूर पहनें। बाहर निकलने पर समाजिक दूरी के नियमों का संयम के साथ पालन करें। खासकर खरीदारी करते समय शारीरिक दूरी अवश्य बनाये रखें। बाहर निकलते ही आप सार्वजनिक उपयोग में लायी जाने वाली सतहों के सम्पर्क में आते रहते हैं। ऐसे में हाथों का विशेष ख्याल रखें किसी भी सतह या चीजों को छूने से पहले एक बार अवश्य विचार कर लें। आवश्यक होने पर ही उसे छूयें। किसी सतह या चीजों को छूने के बाद अपने मास्क को ठीक करने या बोल-चाल के दौरान मास्क को नियंत्रित करने के लिए मास्क को छूने से बचें। नियमित समय अंतराल पर हाथों को सैनिटाइज करना न भूलें।

टीका का दोनों डोज लेने के बाद भी जरूरी है नियमों का पालन: सिविल सर्जन
सिविल सर्जन ने दोनों टीका ले चुके लोगों को भी कोविड नियमों के पालन करते रहने की अपील की। उन्होंने कहा वर्तमान में 18 वर्ष तथा इससे अधिक आयु वर्ग के व्यक्तियों के लिये वैक्सीनेशन की सुविधा उपलब्ध है। वर्तमान में 18 वर्ष की आयु से कम अर्थात बच्चों के लिये वैक्सीनेशन उपलब्ध नहीं है, जब इस आयु वर्ग का वैक्सीनेशन होगा, तब भी इस आयु वर्ग के सभी बच्चों को टीका लगवाना चाहिए। जब हम खुद वैक्सीनेटेड हो जाते हैं तो गंभीर बीमारियाँ हमें नहीं होती हैं तथा किसी न किसी रूप में यह हमारे परिवार को भी सुरक्षित करता है। परिवार के अन्य लोगों का यदि वैक्सीनेशन हो जाता है तो बच्चों को स्वयं ही इस संक्रमण से सुरक्षा मिल जाती है। जिले में 18 साल से अधिक उम्र के कुल 85952 लोगों को टीका का पहला व 54 लोगों को टीका की दूसरी डोज लगायी गयी। वहीं 45 साल से अधिक आयु वर्ग के 94294 लोगों को टीका का पहला व 19369 लोगों को दूसरी डोज लगायी गयी। वहीं कुल 197120 लोगों को कोरोना टीका का पहला व 311125 लोगों को टीका की दूसरी डोज लगायी गयी है।

Please follow and like us:
error5
Tweet 20
fb-share-icon20
कोरोना